मंगलवार, 31 दिसंबर 2013

कहे के पसरे खालीपन में मेरा सुनना ठिठुर रहा था

रात कि परछाई थी जो कल आने का कहती भुरभुरा रही थी

कहे के पसरे खालीपन में मेरा सुनना ठिठुर रहा था

धरती कोई कमरा थी किसी के ठंडे तकिये पर रखी जिसमे एक कमरे में चाय पीते किसी को किसी कि याद के भूत से पीछा छुड़ाने कि शहदीली कोशिश में जीने मरने के पुल से छलांग लगानी थी

अनिद्रा का
स्वप्नरहित
तालाब
तब
जीभ
काट
रोयेगा

रोने के भरेपन में मेरी देह हल्की हो तैरेगी 

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह....बेहतरीन.....
    निःशब्द करती रचना.
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरा नाम Anurag Choudhary है और Fatehpur-Shekhawati में रहता हूं ।अंगरेजी में ब्लाग लिखता हूं । अंगरेजी में लिखना विविवशता है एक तो मेरा विषय ही ऐसा है और असल में मुझे Universal Key Board पर हिन्दी लिखनी आती ही नहीं है । हमारे क्षेत्र में ब्लागरों की संख्या नगण्य है । जो हैं वो भी SEO and Page Rank backlinks के प्रति उदसीन हैं । इस लिये मैं आप सभी महानु्भावों से निवेदन करता हूं कि सब आपस में जुडें आपस में Posts पर comment करें यही सब backlinks के आधार है । मेरा निवेदन सभी ब्लोग्गेर मित्रों को भेजें । मुझे कोई आदेश मेरे ब्लाग http://compualchemist.blogspot.in Via post comment या मेरी email-anuragchoudharyj@gmail.com पर भेजें ।

    उत्तर देंहटाएं