रविवार, 11 अगस्त 2013

न भूलने ने बहुत मारा

लगा जब
भूल रहा हूँ सब
तब
न भूलने ने
बहुत मारा

दो दीवारों मध्य
जैसे
ढह गयी हो रात

अपना आप उठाया
और
चीलों के
हवाले
कर
दिया

1 टिप्पणी:

  1. दो दीवारों मध्य
    जैसे
    ढह गयी हो रात ...
    मामिक

    उत्तर देंहटाएं